{*Speech*} 26th January Republic Day 2017 for Students and Kids

0
8

26th January Happy Republic Day India 2016 Speech, Republic Day 2016 Speech : So here is the celebration of 26th january which is generally called Happy Republic day India 2017. Check out the Republic day india 2017 speech and much more..

26th January Republic Day Speech :

Well as we all know that on 26th january we the indians celebrate happy republic day every year since 1950 when the Constitution of India came into existence.

It was greatly observed – the enthusiasm and the patriotism on that day. For this all government offices, schools and educational institutions also organize events for the celebration.

Happy Republic day 2017 Speech for Kids and Students, Short and Long Speech for Republic day 2017,Republic day 2017 Speech in Hindi and English
Happy Republic day 2017 Speech for Kids and Students, Short and Long Speech for Republic day 2017,Republic day 2017 Speech in Hindi and English

So you guys are preparing for the republic day speech in hindi as well as in english language. Well many of you have asked to deliver the speech on republic day in hindi or republic day speech for kids or short speech on republic day and much more.
It has been 68 years in India of acting the laws of Constitution of India. Well Republic Day honors the date on which the Constitution of India came into force on 26 January 1950 replacing the GAC (Government of India Act) 1935 as the governing document of India.

So my dear friends if you are searching for the best and amazing republic day 2017 speech, speech on republic day, republic day speech in english, 26th january republic day speech 2017 and much more.

Short Speech on Republic Day 2017 :

January 26th or Republic Day is observed as India’s national festival which was declared as national holiday. Independence Day and Gandhi Jayanti are two another national holidays. On 26th of January 1950 our country became totally democratic republic in the Indian Parliament after independence.

Indian army (Army, Navy and Airforce) salutes the President while marching to the Rajpath. Indian army show India’s strength and by presenting all of the great creations like big guns and tanks.

Following the army parade, every state reveals their Jhankis showing custom and their culture. Only at that day every Indian should take an oath to develop our country as a peaceful nation. By the end, every pupil gets namkin and sweet and goes with their house happily.

Republic Day Speech in English

We have gathered here today on the occasion of India’s Republic Day. A short while ago, we have heard the speech from our honorable Chief Guest after hoisting the national flag of India. We also got an opportunity to meet and hear the chief guest’s speech on the Republic Day topic .

We also heard the speech from our School / College Management and Teachers.In India, Republic Day honors the date on which the Constitution of India came into force on 26 January 1950 replacing the Government of India Act (1935) as the governing document of India.

When India became independent from the British rule, there was a lot of rework to be done to save our country from becoming a hell. It was a time when people were fighting with each other for each and everything.

We have Bhagath singh, Lajpath Rai who fought for us against the British remember our great leaders like Mahatma Gandhi. It does not mean we have only to Republic Day to remember their sacrifices to the nation, but every day we have to remember and salute them. But then how does our country grow from here.

Yes, its us, you my friends are going to play a crucial role in the progress of the our country. You are the backbone of our country’s future.

{26 January} Republic Day Speech

First of all I would like you the make familiar with the meaning of Republic, the word republic represent the system of ruling or government in which the supreme leader of a country (in case of India – the President) is elected by the people, therefore, summarizing the meaning of the word we can say that republic mean by the will of people, But the system of republic in India was not came from the word of mouth, but from the aching hearts of the millions of Indian, after the centuries long foreign rule in the country (India) and interminable pains of the people as it became evident to make Indian free from the foreign rule so it also became inevitable to make a system of government in which the freedom and other rights of the Indian people can be secured in utmost way, therefore, the system of Indian republic became indispensable in context of India. But the Indian Republic Day (26th January) also marked an milestone in the history of India, which is enactment of the Indian constitution (which was enacted on 26th January 1950). Constitution of India is the written security of the rights of People from the governmental tyranny.

Today, we have come a long way into future from the first anniversary of Indian Republic Day, our country in these years have achieved a lot of unprecedented development and a unique place in the world, but still a lot more to be done. The true meaning/ ideals of the democracy are yet to be achieved at all the levels. Our leaders, those who fought for Indian freedom, those who sacrificed everything they had in course of Indian freedom, have always been the source of our inspiration for the service to this mother land. Now, the time is ours we have to make our country more peaceful and to take it to pinnacle of prosperity, this will our tribute to our leaders and our service to this country.

Peace with you all, Jai Hind, Jai Bharat.

Best Short Speech on Republic day 2017 for Kids and Students

Good morning to respected elders and my fellow students, We have assembled here today on the occasion of the Republic Day in India. Moments ago, we have heard the speech from our honorable Chief Guest after hoisting the national flag. The speech was also heard by us from our Teachers and School / College Management. Now I would say for giving me such an excellent possibility to stand here and talk a bit about our precious nation on this Republic day. India is a democratic state. Autonomy was achieved by India on January 26th 1950. The Constitution of India was formed and as each year we observed Republic Day on this date. In this year we are observing the 65th republic day in India. It can’t mean that just on Republic day we have to remember the sacrifices of our great leaders towards the country but daily we have to recall and commend them.

26 January Long Speech in Hindi

मातृभुमि के सम्मान एवं उसकी आजादी के लिये असंख्य वीरों ने अपने जीवन की आहूति दी थी। देशभक्तो की गाथाओं से भारतीय इतिहास के पृष्ठ भरे हुए हैं। देशप्रेम की भावना से ओत-प्रोत हजारों की संख्या में भारत माता के वीर सपूतों ने, भारत को स्वतंत्रता दिलाने में अपना सर्वस्य न्योछावर कर दिया था। ऐसे ही महान देशभक्तों के त्याग और बलिदान के परिणाम स्वरूप हमारा देश, गणतान्त्रिक देश हो सका।

गणतन्त्र (गण+तंत्र) का अर्थ है, जनता के द्वारा जनता के लिये शासन। इस व्यवस्था को हम सभी गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। वैसे तो भारत में सभी पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं, परन्तु गणतंत्र दिवस को राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाते हैं। इस पर्व का महत्व इसलिये भी बढ जाता है क्योंकि इसे सभी जाति एवं वर्ग के लोग एक साथ मिलकर मनाते हैं।

गणतंत्र दिवस, 26 जनवरी को ही क्यों मनाते हैं? मित्रों, जब अंग्रेज सरकार की मंशा भारत को एक स्वतंत्र उपनिवेश बनाने की नजर नही आ रही थी, तभी 26 जनवरी 1929 के लाहौर अधिवेशन में जवाहरलाल नेहरु जी की अध्यक्षता में कांग्रेस ने पूर्णस्वराज्य की शपथ ली। पूर्ण स्वराज के अभियान को पूरा करने के लिये सभी आंदोलन तेज कर दिये गये थे। सभी देशभकतों ने अपने-अपने तरीके से आजादी के लिये कमर कस ली थी। एकता में बल है, की भावना को चरितार्थ करती विचारधारा में अंग्रेजों को पिछे हटना पङा। अंतोगत्वा 1947 को भारत आजाद हुआ, तभी यह निर्णय लिया गया कि 26 जनवरी 1929 की निर्णनायक तिथी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनायेंगे।

26 जनवरी, 1950 भारतीय इतिहास में इसलिये भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि भारत का संविधान, इसी दिन अस्तित्व मे आया और भारत वास्तव में एक संप्रभु देश बना। भारत का संविधान लिखित एवं सबसे बङा संविधान है। संविधान निर्माण की प्रक्रिया में 2 वर्ष, 11 महिना, 18 दिन लगे थे। भारतीय संविधान के वास्तुकार, भारत रत्न से अलंकृत डॉ.भीमराव अम्बेडकर प्रारूप समिति के अध्यक्ष थे। भारतीय संविधान के निर्माताओं ने विश्व के अनेक संविधानों के अच्छे लक्षणों को अपने संविधान में आत्मसात करने का प्रयास किया है। इस दिन भारत एक सम्पूर्ण गणतान्त्रिक देश बन गया।देश को गौरवशाली गणतन्त्र राष्ट्र बनाने में जिन देशभक्तो ने अपना बलिदान दिया उन्हे याद करके, भावांजली देने का पर्व है, 26 जनवरी।

मित्रो, भारत से व्यपार का इरादा लेकर अंग्रेज भारत आये थे, लेकिन धीरे -धीरे उन्होने यहाँ के राजाओं और सामंतो पर अपनी कूटनीति चालों से अधिकार कर लिया। आजादी कि पहली आग मंगल पांडे ने 1857 में कोलकता के पास बैरकपुर में जलाई थी, किन्तु कुछ संचार संसाधनो की कमी से ये आग ज्वाला न बन सकी परन्तु, इस आग की चिंगारी कभी बुझी न थी। लक्ष्मीबाई से इंदिरागाँधी तक, मंगल पांडे से सुभाष तक, नाना साहेब से सरदार पटेल तक, लाल(लाला लाजपत राय), बाल(बाल गंगाधर तिलक), पाल(विपिन्द्र चन्द्र पाल) हों या गोपाल, गाँधी, नेहरु सभी के ह्रदय में धधक रही थी। 13 अप्रैल 1919 की (जलिया वाला बाग) घटना, भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की सबसे अधिक दुखदाई घटना थी। जब जनरल डायर के नेतृत्व में अंग्रेजी फौज ने गोलियां चला के निहत्थे, शांत बूढ़ों, महिलाओं और बच्चों सहित सैकड़ों लोगों को मार डाला था और हज़ारों लोगों को घायल कर दिया था। यही वह घटना थी जिसने भगत सिंह और उधम सिंह जैसे, क्रांतीकारियों को जन्म दिया। अहिंसा के पुजारी हों या हिंसात्मक विचारक क्रान्तिकारी, सभी का ह्रदय आजादी की आग से जलने लगा। हर वर्ग भारतमात के चरणों में बलिदान देने को तत्पर था।

अतः 26 जनवरी को उन सभी देशभक्तों को श्रद्धा सुमन अपिर्त करते हुए, गणतंत्र दिवस का राष्ट्रीय पर्व भारतवर्ष के कोने-कोने में बड़े उत्साह तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। प्रति वर्ष इस दिन प्रभात फेरियां निकाली जाती है। भारत की राजधानी दिल्ली समेत प्रत्येक राज्य तथा विदेषों के भारतीय राजदूतावासों में भी यह त्योहार उल्लास व गर्व से मनाया जाता है।

26 जनवरी का मुख्य समारोह भारत की राजधानी दिल्ली में भव्यता के साथ मनाते हैं। देश के विभिन्न भागों से असंख्य व्यक्ति इस समारोह की शोभा देखने के लिये आते हैं। हमारे सुरक्षा प्रहरी परेड निकाल कर, अपनी आधुनिक सैन्य क्षमता का प्रदर्शन करते हैं तथा सुरक्षा में सक्षम हैं, इस बात का हमें विश्वास दिलाते हैं। परेड विजय चौक से प्रारम्भ होकर राजपथ एवं दिल्ली के अनेक क्षेत्रों से गुजरती हुयी लाल किले पर जाकर समाप्त हो जाती है। परेड शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री ‘अमर जवान ज्योति’ पर शहीदों को श्रंद्धांजलि अर्पित करते हैं। राष्ट्रपति अपने अंगरक्षकों के साथ 14 घोड़ों की बग्घी में बैठकर इंडिया गेट पर आते हैं, जहाँ प्रधानमंत्री उनका स्वागत करते हैं। राष्ट्रीय धुन के साथ ध्वजारोहण करते हैं, उन्हें 21 तोपों की सलामी दी जाती है, हवाई जहाजों द्वारा पुष्पवर्षा की जाती है। आकाश में तिरंगे गुब्बारे और सफेद कबूतर छोड़े जाते हैं। जल, थल, वायु तीनों सेनाओं की टुकडि़यां, बैंडो की धुनों पर मार्च करती हैं। पुलिस के जवान, विभिन्न प्रकार के अस्त्र-षस्त्रों, मिसाइलों, टैंको, वायुयानो आदि का प्रदर्षन करते हुए देश के राष्ट्रपति को सलामी देते हैं। सैनिकों का सीना तानकर अपनी साफ-सुथरी वेषभूषा में कदम से कदम मिलाकर चलने का दृष्य बड़ा मनोहारी होता है। यह भव्य दृष्य को देखकर मन में राष्ट्र के प्रति भक्ति तथा ह्रदय में उत्साह का संचार होता है। स्कूल, कॉलेज की छात्र-छात्राएं, एन.सी.सी. की वेशभूषा में सुसज्जित कदम से कदम मिलाकर चलते हुए यह विश्वास उत्पन्न करते हैं कि हमारी दूसरी सुरक्षा पंक्ति अपने कर्तव्य से भलीभांति परिचित हैं। मिलेट्री तथा स्कूलों के अनेक बैंड सारे वातावरण को देशभक्ति तथा राष्ट्र-प्रेम की भावना से गुंजायमान करते हैं। विभिन्न राज्यों की झांकियां वहाँ के सांस्कृतिक जीवन, वेषभूषा, रीति-रिवाजों, औद्योगिक तथा सामाजिक क्षेत्र में आये परिवर्तनों का चित्र प्रस्तुत करती हैं। अनेकता में एकता का ये परिदृष्य अति प्रेरणादायी होता है। गणतन्त्र दिवस की संध्या पर राष्ट्रपति भवन, संसद भवन तथा अन्य सरकारी कार्यालयों पर रौशनी की जाती है।

26 जनवरी का पर्व देशभक्तों के त्याग, तपस्या और बलिदान की अमर कहानी समेटे हुए है। प्रत्येक भारतीय को अपने देश की आजादी प्यारी थी। भारत की भूमि पर पग-पग में उत्सर्ग और शौर्य का इतिहास अंकित है। किसी ने सच ही कहा है- “कण-कण में सोया शहीद, पत्थर-पत्थर इतिहास है।“ ऐसे ही अनेक देशभक्तों की शहादत का परिणाम है, हमारा गणतान्त्रिक देश भारत।

26 जनवरी का पावन पर्व आज भी हर दिल में राष्ट्रीय भावना की मशाल को प्रज्वलित कर रहा है। लहराता हुआ तिरंगा रोम-रोम में जोश का संचार कर रहा है, चहुँओर खुशियों की सौगात है। हम सब मिलकर उन सभी अमर बलिदानियों को अपनी भावांजली से नमन करें, वंदन करें।

जय हिन्द, जय भारत

अनिता शर्मा

I think you all now are confident to deliver Hindi and English speech on Republic day 2017 through these republic day hindi speech.

Stay connected with us for more latest updates..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here